Monday, 27 November 2017

ये दिन और रात

ना दिन पूरा होता है, उसके लिए जिए बिना,
"जिया"
ना ही रात पूरी होती है, उसकी बाहों में सोए बिना ।

No comments:

Post a Comment