Monday, 7 November 2016

जिंदगी

कभी तेजी से चलती है, कभी ठहर सी जाती है,
कमाल है ये जिंदगी,
"जिया"
रोज नए खेल खिलाती है ।

No comments:

Post a Comment